Menu
Heart Touching Shayari

महफिल में मुस्कुराना मेरा मिजाज बन गया…

महफिल में मुस्कुराना मेरा मिजाज बन गया,
तन्हाई में रोना भी एक राज बन गया,
दिल के जख्म को चेहरे से जाहिर न होने दिया,
यही जिन्दगी में मेरे जीने का अंदाज बन गया.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *