Menu

मेरी साँसों को भी आज टूट जाने दे ए-खुदा…

मेरी साँसों को भी आज टूट जाने दे ए-खुदा,
मेरे ख्वाबों की तरह, उसके वादों की तरह,
तेरे सिवा कौन समा सकता है मेरे दिल में,
रुह तक गिरवी है मेरी, तेरी चाहत में..

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *