Menu

Monthly Archives / अक्टूबर 2016

तन्हाई ना पाए कोई साथ के बाद…

तन्हाई ना पाए कोई साथ के बाद,
जुदाई ना पाए कोई मुलाकात के बाद,
ना पड़े किसी को किसी की आदात इतनी,
कि हर सांस भी आए उसकी याद के बाद..

जब तुम पर बीतेगी…

जब तुम पर बीतेगी
तो तुम भी जान जाओगी
की कोई जब अपना नजर अंदाज
करता है तो कितना दर्द होता हैं…

मेरी साँसों को भी आज टूट जाने दे ए-खुदा…

मेरी साँसों को भी आज टूट जाने दे ए-खुदा,
मेरे ख्वाबों की तरह, उसके वादों की तरह,
तेरे सिवा कौन समा सकता है मेरे दिल में,
रुह तक गिरवी है मेरी, तेरी चाहत में..