Menu

Monthly Archives / नवम्बर 2016

Sad Shayari

तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं…

तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं;
तेरा दीदार करने की चाह जगी है;
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता;
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में;
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है!

ज़िन्दगी मिलती हैं एक बार…

ज़िन्दगी मिलती हैं एक बार
मौत आती हैं एक बार
दोस्ती होती हैं एक बार
प्यार होता हैं एक बार
दिल टूटता हैं एक बार
जब सब कुछ होता हैं एक बार
तो फिर आपकी याद क्यों आती हैं बार बार!!

जिस जिस ने मुहब्बत में…

जिस जिस ने मुहब्बत में,
अपने महबूब को खुदा कर दिया,
खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए,
उनको जुदा कर दिया.

परछाई आपकी हमारे दिल में है…

परछाई आपकी हमारे दिल में है,
यादे आपकी हमारी आँखों में है,
कैसे भुलाये हम आपको,
प्यार आपका हमारी साँसों में है.

Love Shayari

सर झुकाने की आदत नहीं है…

सर झुकाने की आदत नहीं है,
आँसू बहाने की आदत नहीं है,
हम खो गए तो पछताओगे बहुत,
क्युकी हमारी लौट के आने की आदत नहीं है!

प्यार किया बदनाम हो गए…

प्यार किया बदनाम हो गए,
चर्चे हमारे सरेआम हो गए,
ज़ालिम ने दिल उस वक़्त तोडा,
जब हम उसके गुलाम हो गए.

मुहब्बत में सच्चा यार न मिला…

मुहब्बत में सच्चा यार न मिला,
दिल से चाहे हमें वो प्यार न मिला।
लूटा दिया उसके लिए सब कुछ मैने,
मुसीबत में मुझे मददग़ार न मिला।

Bewafa Shayari

मुझे फिर तबाह कर मुझे फिर रुला जा…

मुझे फिर तबाह कर मुझे फिर रुला जा,
सितम करने वाले कहीं से तू आजा,
आँखों में तेरी ही सूरत बसी है,
तेरी ही तरह तेरा ग़म भी हंसीं है..

भुला के मुझको अगर तुम भी हो सलामत…

भुला के मुझको अगर तुम भी हो सलामत,
तो भुला के तुझको संभलना मुझे भी आता है,
नहीं है मेरी फितरत में ये आदत वरना,
तेरी तरह बदलना मुझे भी आता है..

Bewafa Shayari

जिस किसीको भी चाहो वोह बेवफा हो जाता है…

जिस किसीको भी चाहो वोह बेवफा हो जाता है,
सर अगर झुकाओ तो सनम खुदा हो जाता है,
जब तक काम आते रहो हमसफ़र कहलाते रहो,
काम निकल जाने पर हमसफ़र कोई दूसरा हो जाता है…