Menu
Dard Shayari

मुझको ऐसा ‪दर्द‬ मिला जिसकी ‪दवा‬ नहीं…

मुझको ऐसा ‪दर्द‬ मिला जिसकी ‪दवा‬ नहीं,
फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई गिला नहीं,
और कितने आंसू बहाऊँ उस के लिए,
जिसको ‪खुदा‬ ने मेरे ‪‎नसीब‬ में लिखा ही नहीं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *