Menu

Dosti Shayari

एक जैसे दोस्त सारे नही होते…

एक जैसे दोस्त सारे नही होते,
कुछ हमारे होकर भी हमारे नहीं होते,
आपसे दोस्ती करने के बाद महसूस हुआ,
कौन कहता है ‘तारे ज़मीं पर’ नहीं होते.

दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है…

दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है,
दोस्ती ही सुख दुख की पहचान होती है,
रूठ भी गऐ हम तो दिल पर मत लेना,
क्योकि दोस्ती जरा सी नादान होती है…!!!

एक पहचान हज़ारो दोस्त बना देती हैं…

एक पहचान हज़ारो दोस्त बना देती हैं,
एक मुस्कान हज़ारो गम भुला देती हैं,
ज़िंदगी के सफ़र मे संभाल कर चलना,
एक ग़लती हज़ारो सपने जला कर राख देती है.

नब्ज़ मेरी देखी और बीमार लिख दिया…

नब्ज़ मेरी देखी और बीमार लिख दिया,
रोग मेरा उसने दोस्तों का प्यार लिख दिया,
कर्ज़दार रहेंगे उम्र भर हम उस हकीम के,
जिसने इलाज़ दोस्तों का साथ लिख दिया..

दिन हुआ है तो रात भी होगी…

दिन हुआ है तो रात भी होगी,
हो मत उदास, कभी बात भी होगी,
इतने प्यार से दोस्ती की है,
जिन्दगी रही तो मुलाकात भी होगी..

हमारे तो दामन मे काँटो के सिवा कुछ नहीं…

हमारे तो दामन मे काँटो के सिवा कुछ नहीं,
आप तो फूलों के खरीदार नजर आते हो,
जहा मे कितने दोस्त मिले,
पर सबसे अच्छे तो आप नजर आते हो..

करनी है खुदा से गुजारिश…

करनी है खुदा से गुजारिश,
तेरी दोस्ती के सिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जनम में मिले दोस्त तेरे जैसा,
या फिर कभी जिंदगी न मिले।

टूटे दिल को…

टूटे दिल को, संभलने की आस क्या रखिये,
कितना खोया ज़िंदगी में हिसाब क्या रखिये,
अगर बांटनी है तो खुशियाँ बांटो दोस्तों से,
अपने अज़ाब अपने हैं,सब को उदास क्या रखिये।

कुछ रिश्ते अंजाने मे बाँध जाते हैं…

कुछ रिश्ते अंजाने मे बाँध जाते हैं,
अंजान दिल भी ज़िंदगी से जुड़ जाते हैं,
कहते हैं उस रिश्ते को दुनिया मे दोस्ती,
दिल से दिल इसमे जाने कब मिल जाते हैं..

देखी जो नब्ज मेरी…

देखी जो नब्ज मेरी,
हँस कर बोला वो हकीम,
जा जमा ले महफिल पुराने दोस्तों के साथ..
तेरे हर मर्ज की दवा वही है.