Menu

Zindagi Shayari

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ…

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,
मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ,
तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है,
मैं रास्ता याद रखता हूँ ठिकाना भूल जाता हूँ,
बस इतनी बात पर मैं लोगों को अच्छा नहीं लगता,
मैं नेकी कर तो देता हूँ, जताना भूल जाता हूँ..

जीत किसके लिए…

जीत किसके लिए,हार किसके लिए,
जिन्दगी भर यह तकरार किसके लिए,
जो भी आया है वो जाऐगा एक दिन,
फिर ये अहंकार किसके लिए।..

सोच बदलो सितारे बदलगे…

सोच बदलो सितारे बदलगे,
ऩजर बदलो ऩजारे बदलगे,
किशती कया बदलते हो यारो,
बदलना है तो लहरो को बदलो,
किनारे अपने आप बदलगे..

ज़रा सी रंजिश पर…

ज़रा सी रंजिश पर,ना छोड़,
किसी अपने का दामन
ज़िंदगी बीत जाती है
अपनो को अपना बनाने में..!

दिल से दुआ है ज़िंदगी तुम्हारी सुधर जाए…

दिल से दुआ है ज़िंदगी तुम्हारी सुधर जाए,
हर नज़र मे बस प्यार ही प्यार नज़र आए,
तुम्हे जिसकी तलाश है आए मेरे दोस्त,
खुदा करे वो खुद तुम्हारी तलाश मे आए..

जीत किसके लिए हार किसके लिए…

जीत किसके लिए हार किसके लिए
ज़िंदगी भर ये तकरार किसके लिए,
जो भी आया है वो जायेगा एक दिन
फिर ये इतना अहंकार किसके लिए !

जो सफर की शुरुआत करते हैं…

जो सफर की शुरुआत करते हैं,
वे मंजिल भी पा लेते हैं बस,
एक बार चलने का हौसला रखना जरुरी है.
क्योंकि,अच्छे इंसानों का तो रास्ते भी इन्तजार करते है

कदर करलो उनकी जो तुमसे…

कदर करलो उनकी जो तुमसे
बिना मतलब की चाहत करते है
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम
और तकलीफ देने वाले ज्यादा होते है!!

वक़्त कहता है फिर ना आऊगा…

वक़्त कहता है फिर ना आऊगा,
आप की आँखों को न अब रूलाऊगा,
जीना है तो इस पल को जी लो,
शायद मै कल तक ना रूक पाऊगा।

किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों है?…

किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों है?
जो नहीं मिल सकता उसी से मुहब्बत क्यों है?
कितने खायें है धोखे इन राहों में!
फिर भी दिल को उसी का इंतजार क्यों है?