Menu
Yaadein Shayari

आशाएं ऐसी हो जो-मंज़िल तक ले जाएँ…

आशाएं ऐसी हो जो-मंज़िल तक ले जाएँ,
मंज़िल ऐसीहो जो-जीवन जीना सीखा दे,
जीवन ऐसा हो जो-संबंधों की कदर करे,
और संबंध ऐसे हो जो-याद करने को मजबूर कर दे!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *